Tuesday, April 16, 2024
Google search engine
Homeउत्तराखंडउत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री को प्रत्याशी के पक्ष में वोट मांगना पड़ा...

उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री को प्रत्याशी के पक्ष में वोट मांगना पड़ा भारी! जनता ने खूब सुनाई खरी-खोटी,वादे भी दिलाए याद

चुनाव प्रचार के दौरान कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी को अपनी विधानसभा में बीजेपी प्रत्याशी माला राज्य लक्ष्मी शाह के लिए वोट मांगना भारी पड़ गया। जहां पूर्व सैनिक और ग्रामीणों ने गणेश जोशी को घेर लिया। साथ ही दो टूक कह दिया कि हम क्यों वोट दें? जब पीने तक का पानी नहीं मिल पा रहा है। कुछ देर तक बहस चलने के बाद मंत्री जोशी मौके से वापस लौट आए।

टिहरी लोकसभा सीट से बीजेपी प्रत्याशी माला राज्य लक्ष्मी शाह के पक्ष में वोट मांगने गए कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी को विरोध का सामना करना पड़ा। जहां वो गए तो थे बीजेपी के पक्ष में मतदान की अपील करने, लेकिन वहां वोट मांगना, उनके लिए उल्टा पड़ गया। पूरा वाक्या मसूरी विधानसभा क्षेत्र में पड़ने वाले गल्जवाड़ी, अनारवाला और विलासपुर कांडली में जनसंपर्क के दौरान हुआ। जहां पूर्व सैनिकों और स्थानीय लोगों ने उन्हें घेर लिया। इतना ही नहीं लोगों ने उनके पुराने वादे याद दिला दिए. जिससे बहस की स्थिति पैदा हो गई। दरअसल टिहरी सीट से बीजेपी प्रत्याशी माला राजलक्ष्मी शाह के कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी को पूर्व सैनिकों ने पेयजल समस्या को लेकर घेर लिया। साथ ही जमकर विरोध भी किया। इस दौरान पूर्व सैनिकों का कहना था कि केंद्र और राज्य सरकार की ओर से चलाई जा रही ‘हर घर जल योजना’ का लाभ उन्हें नहीं मिल पा रहा है। इतना ही नहीं मौके पर बहस भी हो गई. जिसका वीडियो भी वायरल हो रहा है। वीडियो में पूर्व सैनिक, कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी से कहते दिख रहे हैं कि हम यदि वोट दें तो किसको दें? जिसके जवाब में गणेश जोशी का साफ कहना था कि जिसको आपका मन करता है, उसको वोट दें। इस दौरान पीछे से आवाज आती है कि वोट तो आपको भी दिया था और आप मंत्री हैं, लेकिन आज तक उनकी सुध तक नहीं ली। इतना ही नहीं पूर्व सैनिकों का कहना था कि उन्होंने हमेशा बीजेपी को वोट दिया है और पांच बार उन्हें वोट देकर जिताया लेकिन उनके गांव में पीने की पानी की व्यवस्था तक नहीं हैं।

बता दें कि बिलासपुर कंडोली गांव के पूर्व सैनिक पानी को लेकर नाराज हैं। सरकार की हर घर नल योजना का लाभ इन लोगों को नहीं मिल पाया है। पूर्व सैनिकों का कहना है कि सैकड़ों परिवारों को पानी के टैंकर मंगाकर प्यास बुझानी पड़ती है। स्थानीय लोगों का भी आरोप है कि गांव में पेयजल की काफी किल्लत है। कई बार इस बात को लेकर स्थानीय लोग विधायक और सरकार में कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी के ऑफिस के भी चक्कर काटे गए लेकिन आज तक उनकी सुध नहीं ली गई। आज एक बार फिर से वो वोट मांगने गांव में आए हैं, जिसका वो विरोध कर रहे हैं। वहीं मामले में कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी की प्रतिक्रिया सामने आई है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से यह सोशल मीडिया पर चलाए जा रहा है ऐसा कुछ भी नहीं है। उन्होंने कहा कि वह क्षेत्र में लगातार काम कर रहे हैं और लगातार जनता के बीच में हैं। इससे ज्यादा उन्हें कुछ नहीं कहना है।

 

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें