Friday, February 23, 2024
Google search engine
Homeउत्तराखंडअचानक शिव मंदिर में दिखा चमत्कार और फिर उमड़ा आस्था का सैलाब!...

अचानक शिव मंदिर में दिखा चमत्कार और फिर उमड़ा आस्था का सैलाब! जलाभिषेक के दौरान शिवलिंग में दिखी आंखों की आकृति

सावन सोमवार के चलते शिवालयों में जल चढ़ाने के लिए बड़ी संख्या में भक्त पहुंच रहे हैं। बड़े-छोटे सभी शिवालयों में सुबह से ही भगवान भोलेनाथ का जलाभिषेक करने के लिए भक्तों का तांता लगा हुआ है, लेकिन उत्तराखंड के रुद्रपुर स्थित एक शिवालय में अचानक श्रद्धालुओं की भीड़ बेकाबू हो गई। जलाभिषेक के दौरान घटी एक घटना चारों तरफ फैल गई। जिसके बाद यहां भक्तों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी।

रुद्रपुर के इंदिरा बंगाली कालोनी स्थित शिव मंदिर में स्थापित शिवलिंग में आंखों की आकृति दिखने पर लोगों की लगी भारी भीड़ लग गई। लोगों को ऐसा दावा है, कि शिवलिंग में आंखों की आकृति दिख रही है। इस खबर के चारों ओर फैलते ही लोग मंदिर में पहुंचकर शिवलिंग के दर्शन करने के साथ ही फोटो भी ले रहे हैं। मंदिर के समीप रह रहे आशीष ने बताया कि रविवार को पूजा करने आए एक व्यक्ति को शिवलिंग में आंखों की आकृति दिखी। इसके बाद रात 9.40 से शिव मंदिर में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ लग गई। इसके बाद रात 1.40 बजे तक मंदिर में भीड़ लग गई। सोमवार की सुबह भी मंदिर में लोग भारी संख्या में पहुंचे। डॉ. आचार्य सुशांत राज ने बताया कि पंचांग के अनुसार, इस माह में शिव पूजा के लिए सोमवार, प्रदोष व्रत और सावन शिवरात्रि का दिन बहुत खास माना जाता है। हर माह में मासिक शिवरात्रि आती है लेकिन इस साल सावन में दो मासिक शिवरात्रि का संयोग है।शिवरात्रि पर ओम नमः शिवाय मंत्र का जाप करते हुए भगवान शिव का जलाभिषेक करें। इससे कष्टों से मुक्ति मिलती है। ध्यान रखें कि इस दिन तामसिक भोजन न करें। फल, फूल, चंदन, बिल्व पत्र, धतूरा, धूप व दीप से शिवजी की पूजा करें। दूध, दही, घी, शहद और शक्कर एक साथ मिलाकर पंचामृत से शिवलिंग को स्नान कराकर जल से अभिषेक कराएं। भोलेनाथ के आठ नामों भव, शर्व, रुद्र, पशुपति, उग्र, महान, भीम और ईशान को लेकर फूल अर्पित कर शिव जी की आरती और परिक्रमा करें। कहा जाता है कि भगवान शिव का दूध से अभिषेक करने और बेलपत्र चढ़ाने से पूजा का दोगुना फल मिलता है।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें